डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

Blog posts : "General"

‘बस ऐसे ही भर गयी आँखे’ कहने वाला झूठा है !


कुछ तो दिल में पिघला होगा कुछ तो अंदर फूटा है !

‘बस ऐसे ही भर गयी आँखे’ कहने वाला झूठा है !!


लम्बी लम्बी परछाईं जब रफ़्ता रफ़्ता खो जाए,

कहती है तब साँझ सुहानी साथ किसी का छूटा है!


बिखरे हैं जज़्बात के मोती प्यार की माला टूटी है,

जबसे छूटा हाथ तुम्हारा आस का दामन छूटा है !


दिल के सूने शीशमहल में यूँ ही शोर नही बरपा,

तेरी यादों के पत्थर से शायद कुछ तो टूटा है!


तुमसे बिछड़कर दिल के चमन में पतझड़ जैसा मौसम है,

पत्ता पत्ता सूख चुका है  सूखा बूटा बूटा है !


दिल की धड़कन रूठी रूठी सांसें बैठी धरने पर,

जब से गए हो मन घायल है तन भी टूटा फूटा है !


दिल के सच्चे दर्द को ‘सूरज’ आख़िर अब किससे बाँटें,

लिखने वाला पढ़ने वाला सुनने वाला झूठा है !


डॉ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

रस्म ए उलफ़त की बात करते हैं

रस्म ए उलफ़त की बात करते हैं

हम मुहब्बत की बात करते हैं

 

वहशते ग़म के साथ रहके भी

हम मसर्रत की बात करते हैं

 

जो इशारे हैं उनकी आँखों के

सब शरारत की बात करते हैं

 

ज़िक्र होता है वस्ल का जब भी

वो क़यामत की बात करते हैं

 

पूछता है जो कोई हाले दिल

उसकी रहमत की बात करते हैं

 

दिल में क्या है बयां नहीं करते

बस सियासत की बात करते हैं

 

क्यूँ डरें इश्क़ में ज़माने से

हम बग़ावत की बात करते हैं

 

जो लुटेरे थे क्या हुआ उनको

क्यूँ हिफ़ाज़त की बात करते हैं

 

जिनको इल्मे वज़ू नहीं 'सूरज'

वो इबादत की बात करते हैं

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

1. उलफ़त =प्रेम 2. वहशते ग़म= दुख का डर 3. मसर्रत= खुशी 4. वस्ल= मिलन

5. रहमत= कृपा 6. सियासत= राजनीति 7. हिफ़ाज़त= सुरक्षा

8. इल्मे वज़ू = नमाज़ से पहले पानी से खुद को साफ करने का ज्ञान 7. इबादत = पूजा

 

Go Back

दुनिया ने कहा इश्क़ में रुसवाई बहुत है

दुनिया ने कहा इश्क़ में रुसवाई1 बहुत है 

मुझको भी लगा बात में सच्चाई बहुत है

 

आई है मुझे कहने को वो ईद मुबारक

शायद वो इसी बात से घबराई बहुत है

 

देखेगी मगर ज़ख़्म को मरहम नहीं देगी 

ये भीड़ ज़माने की तमाशाई2 बहुत है

 

दुनिया को मैं नादान नज़र आता हूँ लेकिन 

माँ कहती है के मुझमें भी दानाई3 बहुत है

 

हमराज़4 मेरा तेरे सिवा कोई नहीं है 

कहने को ज़माने से शनासाई5 बहुत है

 

इक ताजमहल उसकी मुहब्बत में बना दूँ 

बनता ही नहीं क्या करूँ महँगाई बहुत है

 

तुम तीर न ख़ंजर न ये तलवार उठाओ 

करने के लिए क़त्ल ये अंगड़ाई बहुत है

 

मैं झील सी आँखों में कहीं डूब न जाऊँ

आँखों में तेरे प्यार की गहराई बहुत है

 

कहने को मेरे पास तो है सारा ज़माना 

इक तेरे बिना बज़्म5 में तन्हाई बहुत है

 

हर सुब्ह का अंजाम वही शाम सा ढलना

'सूरज' ने मुझे बात ये समझाई बहुत है

 

डॉ. सूर्या बाली 'सूरज'

1. रुसवाई = बदनामी 2. तमाशा देखने वाली 3. दानाई= समझदारी  4. हमराज़ = हर भेद जानने वाला, मित्र 5. शनासाई= जान पहचान 6. बज़्म =महफ़िल 

Go Back

बेवफ़ा सुन ले तुझे प्यार किया है मैंने

साहब ए इश्क़1 को अफ़गार2 किया है मैंने

बेवफ़ा सुन ले तुझे प्यार किया है मैंने

 

कोई सौदागर ए ग़म3 हो तो इसे ले जाये

दर्द ओ ग़म को सरे बाज़ार किया है मैंने

 

दिल की दहलीज़4 पे रख के तेरी यादों के चिराग

हर शब-ए-हिज़्र5 को गुलज़ार किया है मैंने

 

दर्द पिघले तो न बहने लगे आँखों से कहीं

दिल के ज़ख़्मों को ख़बरदार किया है मैंने

 

उसकी रुसवाई6 न हो बज़्म7 की ग़ैरत8 भी रहे

चश्म ए पुरनम9 से ही गुफ़्तार10 किया है मैंने

 

बोझ दिल पे लिए आया था वो मुझसे मिलने

ऐसे इक वस्ल11 से इंकार किया है मैंने

 

वो मेरा होगा तो आएगा लौट के, उसको

फैसले के लिए मुख़्तार12 किया है मैंने

 

टूटी कश्ती में मुहब्बत का सफ़र है 'सूरज'

चाहतों को तिरी पतवार किया है मैंने

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

 

1. साहब ए इश्क़ = दिल 2.अफ़गार= घायल 3. सौदागर ए ग़म = दुख का व्यापारी 4.दहलीज़ = चौखट 5. शब-ए-हिज़्र=वियोग की रात 6. रुसवाई= बदनामी 7. बज़्म= महफिल 8. ग़ैरत =स्वाभिमान 9.आंसुओं से भीगी आँखें 10. गुफ़्तार= बातचीत 11. वस्ल= मिलन 12. मुख़्तार = स्वतंत्र, आज़ाद

Go Back

उम्र गुज़रेगी कैसे तेरे बग़ैर

दे दिया दिल किसी को जाने बग़ैर 

जी न पाऊँ अब उसको देखे बग़ैर

 

वो ही धड़कन वही है सांसें अब 

ज़िंदगी कुछ नहीं है उसके बग़ैर

 

एक पल काटना भी मुश्किल है 

उम्र गुज़रेगी कैसे तेरे बग़ैर

 

सोचता हूँ के भूल जाऊँ तुझे

रह नहीं पाता तुझको सोचे बग़ैर

 

काश तू सुनता मेरे दिल की सदा 

बात करता है तुमसे बोले बग़ैर

 

कोई गुलशन कहाँ मुकम्मल है 

फूल तितली गुलाब भौंरे बग़ैर

 

ज़िंदगी ज़िंदगी नहीं है अब 

काटता हूँ जो रोज़ तेरे बग़ैर

 

अपने हालात क्या बताऊँ तुम्हें 

कैसे समझोगे हाल आये बग़ैर

 

दिल के ज़ख़्मों को जब भी देखोगे 

रह न पाओगे तुम भी रोये बग़ैर

 

रिश्तों में प्यार की नमी रखिए 

सूख जाते हैं फूल सींचे बग़ैर

 

देख लूँ इक निगाह भर के तुझे

दिल परेशॉ है तुझको देखे बग़ैर

 

आँख से आँख क्या मिली 'सूरज'

बस गया दिल में कोई पूछे बग़ैर

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

 

Go Back

ज़िंदगी का रंग फीका था मगर इतना न था

ज़िंदगी का रंग फीका था मगर इतना न था

इश्क़ में पहले भी उलझा था मगर इतना न था

 

क्या पता था लौटकर वापस नहीं आएगा वो

इससे पहले भी तो रूठा था मगर इतना न था

 

दिन में दिन को रात कहने का सलीका देखिये

आदमी पहले भी झूठा था मगर इतना न था

 

अब तो मुश्किल हो गया दीदार भी करना तिरा

पहले भी मिलने पे पहरा था मगर इतना न था

 

उसकी यादों के सहारे कट रही है ज़िंदगी

भीड़ में पहले भी तन्हा था मगर इतना न था

 

टुकड़ा टुकड़ा हो गया है ज़िंदगी का आईना

इससे पहले भी मैं टूटा था मगर इतना न था

 

उसके जाने से बढ़ी 'सूरज' मेरी तिष्नालबी

प्यार के दरिया में प्यासा था मगर इतना न था

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

Go Back

लम्हा लम्हा सदी पे भारी है

कश्मकश ज़िन्दगी में ज़ारी है

लम्हा लम्हा सदी पे भारी है

 

क्यूँ खुली रहती हैं मिरी पलकें

अब इन्हें किसकी इंतज़ारी है

 

इक नशा सा दिलो दिमाग़ पे है

बिन पिये कैसी ये ख़ुमारी है

 

धड़कनें दिल की ठहरी ठहरी हैं

जाने कैसी ये बेक़रारी है

 

दूसरा दिल में आ न पाएगा

दिल पे अब तेरी पहरेदारी है

 

भूल जाऊँ के याद रखूँ तुझे

बस यही जंग खुद से ज़ारी है

 

ग़म मुझे दे के दे खुशी 'सूरज'

अब तो ये ज़िन्दगी तुम्हारी है

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

 

Go Back

ज़िंदा तो आज भी हूँ मगर ज़िंदगी कहाँ

ले आई मुझको देख मेरी आशिक़ी कहाँ

ज़िंदा तो आज भी हूँ मगर ज़िंदगी कहाँ

 

हरसू है बेवफ़ाई दगा झूठ का धुंवा

दिल की खुली भी खिड़की तो जाके खुली कहाँ

 

कहने को आस पास तो खुशियाँ हैं बेशुमार

मिलती थी तेरे साथ मे जो वो खुशी कहाँ

 

मिलने को तो मिले हैं मुझे सैकड़ों हसीन

लेकिन तुम्हारे जैसी मिली चुलबुली कहाँ

 

जज़्बात अब तो दिल के मेरे संग हो गए

एहसास की चादर भी रही मखमली कहाँ

 

हिन्दू है कोई सिख तो मुसलमान कोई है

मुझको कोई बताए के है आदमी कहाँ

 

जो दूर कर दे दिल से अँधेरों के सिलसिले

'सूरज' बता दे मुझको है वो रौशनी कहाँ

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

Go Back

मुझको तुम्हारी याद ने सोने नहीं दिया

मुझको तुम्हारी याद ने सोने नहीं दिया

तन्हाइयों की भीड़ में खोने नहीं दिया

 

चाहा तो बार बार के हो जाऊँ बेवफ़ा

लेकिन तुम्हारे प्यार ने होने नहीं दिया

 

अब तो धुंवाँ धुंवाँ सी हुई मेरी ज़िंदगी

जलने दिया न, राख़ भी होने नहीं दिया

 

लब पे सजा लिए हैं तवस्सुम की झालरें

एहसास ग़म का दुनिया को होने नहीं दिया

 

आँखों में अश्क आप की आ जाएँ ना कहीं

इस डर से अपने आप को रोने नहीं दिया

 

अपना सका मुझे न किसी और का हुआ

मुझको किसी भी और का होने नहीं दिया

 

'सूरज' जो हमने देखा मुहब्बत में एक ख्वाब

पूरा उसे ज़माने ने होने नहीं दिया

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

Go Back

आ जाओ फिर से लौट के इक शाम के लिए

दिल के सुकून चैन ओ आराम के लिए

आ जाओ फिर से लौट के इक शाम के लिए

 

अब तो तिरे ख़याल में रहता हूँ रात दिन

मिलता कहाँ है वक़्त किसी काम के लिए

 

इस मैकशी नज़र से मिलाकर नज़र कहूँ

दिल जान जिगर ले लो बस इक जाम के लिए

 

रावन के भी बहुत से तरफ़दार हो गए

मुश्किल हुई है राह भी अब राम के लिए

 

तुमपे भला लगाऊँ क्यूँ इल्ज़ाम क़त्ल का

तुम तो महज़ बहाना थे इस काम के लिए

 

'सूरज' गवां दी तूने तो गफलत में ज़िंदगी

बख़्शी थी जो ख़ुदा ने किसी काम लिए

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

Go Back

मेरी आँखों को शिकायत है ज़माने भर से

एक अरसा हुआ दीदार को तेरे तरसे

मेरी आँखों को शिकायत है ज़माने भर से

 

दर्दे दिल टपका है पलकों से पिघल कर ऐसे

जैसे सावन में कहीं झूम के बादल बरसे

 

तुम अगर रूबरू मिल करके जुदा होते तो

बोझ हट जाता बिछड़ने का हमारे सर से

 

तुमसे हो जाएगी इक रोज़ मुलाक़ात कहीं

लेके उम्मीद यही रोज़ मैं निकला घर से

 

दिल लगा करके तुझे जब से अपना बनाया

हो गयी तब से अदावत भी ज़माने भर से

 

टूटकर दिल का महल हो गया वीरान मगर

आज भी तेरी सदा आती है बाम ओ दर से

 

बिखरे गुलदस्ते खुले ख़त से है जाहिर 'सूरज'

होके मायूस गया होगा कोई इस दर से

 

डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

Go Back

इतनी बेचैन सी घबराई सी धड़कन क्यूँ है

दिल में ठहरा हुआ तूफ़ान ये उलझन क्यूँ है

इतनी बेचैन सी घबराई सी धड़कन क्यूँ है

 

मुझको हो जाना था संजीदा बहुत पहले मगर

दिल में अब तक मिरे मासूम सा बचपन क्यूँ है

 

मेरे ख्वाबों में ख़यालों में बसा है तू ही

फिर ये वीरान सा एहसास का आँगन क्यूँ है

 

अब सुनाई नहीं देते हैं खनकते लम्हे

इतना ख़ामोश तेरे हाथ का कंगन क्यूँ है

 

हो चुके बंद मुलाक़ात के दरवाज़े जब

दिल ये पकड़े हुए उम्मीद का दामन क्यूँ है

 

जिसके ख़ातिर मैं ज़माने से लड़ा हूँ 'सूरज'

अब वही शख़्स मेरी ज़ान का दुश्मन क्यूँ है

 

डॉ सूर्या बाली सूरज

Go Back

जुल्फें वो खोलकर जो चलें हैं अदा के साथ

जुल्फें वो खोलकर जो चलें हैं अदा के साथ

आया हो जैसे झूम के सावन घटा के साथ

 

हलचल हुई है दिल के समंदर के दरमियाँ

फेंका जो उसने प्यार का कंकड़ अदा के साथ

 

सहरा लबों पे मेरे समंदर है आँख में

यादों की बारिसें भी हैं ग़म की घटा के साथ

 

शिकवे गिले भुला के चले आओ फिर से तुम

तुमको बुला रहा हूँ मैं अब इल्तिज़ा के साथ

 

महँका गयी है दिल के घर आँगन को दोस्तों

आई जो उसके प्यार की खुशबू हवा के साथ

 

मैं लाख चाहकर भी उसे भूलता नहीं

जाने ये कैसा रिश्ता है उस बेवफ़ा के साथ

 

उसने मेरा इलाज़ भी कुछ इस तरह किया

देता रहा वो ज़हर भी मुझको दवा के साथ

 

मुझको न चाहिए ये ज़माने की दौलतें

मुझको तो ज़िंदा रहना है अपनी अना के साथ

 

कागज़ की नाव डूब ही जाती है एक दिन

फिर कैसे अपनी निभती कभी बेवफ़ा के साथ

 

तुझमे ख़ुदा में फ़र्क नहीं रह गया है अब

लेता है तेरा नाम भी 'सूरज' खुदा साथ

 

डॉ. सूर्या बाली "सूरज"

 

Go Back

ज़िंदगी तो बस खुदा की दी हुई सौग़ात है

कब मेहरबानी किसी की कब कोई ख़ैरात है

ज़िंदगी तो बस खुदा की दी हुई सौग़ात है

 

यूं बदल देना ये किस्मत और क़ुदरत का लिखा

ना तुम्हारे बस में है ये ना हमारे हाथ है

 

ज़िंदगी के इस सफ़र में मैं अकेला ही नहीं

साथ मेरे तेरी यादों की हसीं बारात है

 

क्या कहूँ कैसे कहूँ मैं अपने दिल की दास्ताँ 

प्यास होठों पे लिए हूँ पलकों पे बरसात है

 

एक पल ये और कुछ भी सोचने देता नहीं

तेरी यादों का जो लश्कर जेहन पे तैनात है

 

ज़िंदगी भी खेल है रस्साकशी का दोस्तों

इक तरफ़ हैं ख़्वाहिशें तो इक तरफ औक़ात है

 

जब से दिल के अंजुमन में आ गयी उसकी महक

महँका महँका दिन है मेरा महँकी महँकी रात है

 

दूर जाकर भी वो 'सूरज' याद आता है बहुत

भूल पाये हम न उसको कुछ तो उसमे बात है

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

 

Go Back

छुपती है कहाँ प्यार की झंकार किसी से

छुपती है कहाँ प्यार की झंकार किसी से

जुड़ते हैं अगर दिल के कहीं तार किसी से

 

करना न कभी प्यार में तकरार किसी से

उठती है कहाँ इश्क़ में तलवार किसी से

 

इक दिल था मेरे पास जो वो लेके गया है

अब तुम ही कहो कैसे करूँ प्यार किसी से

 

आगाजे मुहब्बत में ये अंजाम हुआ है

डरता है ये दिल करने को इज़हार किसी से

 

दिल का जो तेरे हाल सुनेंगे तो हँसेंगे

करना न ग़मों का कभी इज़्कार किसी से

 

काशी भी मेरा है वही काबा भी वही है

मुझको न ज़माने में है दरकार किसी से

 

रौनक़ थी उसी से तो उसी से थी बहारें

होगा न चमन दिल का ये गुलज़ार किसी से

 

फूलों की तरह आज भी किरदार है अपना

हम रखते नहीं दिल में कभी खार किसी से

 

मैं तुझसे अलग होके कभी जी नहीं सकता

कहनी ये पड़ी बात कई बार किसी से

 

पर काटने को सब मेरा तैयार हैं ‘सूरज’

देखी नहीं जाती मेरी रफ़्तार किसी से

 

डॉ सूर्या बाली ‘सूरज’

Go Back

प्यार जब होगा तो सीने में चुभन भी होगी

प्यार जब होगा तो सीने में चुभन भी होगी

दरमियां दिल के मुहब्बत की अगन भी होगी

 

जाके परदेश मिला होगा बहुत कुछ लेकिन

दिल के कोने में कहीं यादे वतन भी होगी

 

राह में उसके अगर धूप गरम झोकें हैं

तो कहीं छांव कहीं ठंठी पवन भी होगी

 

प्यार जितना ही मुझे तुमसे जियादा होगा

उतना लाज़िम है रक़ीबों को जलन भी होगी

 

आँख रोएगी परेशान मेरा दिल होगा

याद जब तेरी सताएगी घुटन भी होगी

 

हौसले और उमीदों के सहारे चलना

मंज़िलें दूर हैं रस्ते में थकन भी होगी

 

लाख हंस हंस के छुपा ले तू गमों को फिर भी

तेरे चेहरे पे जुदाई की शिकन भी होगी

 

इतना मायूस शबे ग़म से न होना ‘सूरज’

रात के बाद उमींदों की किरन भी होगी

 

डॉ सूर्या बाली ‘सूरज’

Go Back

कहा किसने कि राहे इश्क़ में धोका नहीं है

कहा किसने कि राहे इश्क़ में धोका नहीं है

यहाँ जो दिखता है वो दोस्तों होता नहीं है

 

जो कुछ पाया ज़माने की नज़र में था हमेशा

गंवाया जो उसे इस दुनिया ने देखा नहीं है

 

गुज़ारी है वफ़ादारों में सारी उम्र मैंने

दग़ा करना किसी से भी मुझे आता नहीं है

 

मुझे मालूम है इक दिन जुदा होना है सबको

मगर ऐसे भी कोई दूर तो जाता नहीं है

 

मुहब्बत के सफ़र में हमसफ़र जितने थे मेरे

कोई भी साथ थोड़ी दूर चल पाया नहीं है

 

अज़ब है कश्मकश दिल की ज़ुदा होके भी तुमसे

कहाँ जाऊँ किधर जाऊँ समझ आता नही  है

 

तुम्हारे बाद भी आए बहुत से लोग लेकिन

मेरे दिल के करीब इतना कोई आया नहीं है

 

दग़ा मक्कारी धोका झूठ तेरी बेवफ़ाई

समझता है मेरा दिल भी कोई बच्चा नहीं है

 

तेरा हँसना तो देखा है सभी ने खूब ‘सूरज’

मगर तनहाई में रोता हुआ देखा नहीं है

 

 

डॉ सूर्या बाली ‘सूरज’

Go Back

रूह को जिस्म से जुदा कर दे

रूह को जिस्म से जुदा कर दे

ख़त्म साँसों का सिलसिला कर दे

 

भूल जाऊँ मैं उसकी यादों को

ये ख़ुदा कोई हादसा कर दे

 

दिल का लगना कहीं भी मुश्किल है

मेरी तनहाई खुशनुमा कर दे

 

जिक्र उसका न छेड़ बादे सबा

ज़ख्मे दिल फिर न ये हरा कर दे

 

दास्ताँ प्यार की मुकम्मल हो

तू भी इक बार तो वफ़ा कर दे

 

बागबाँ तू कभी न ग़म करना

फूल कोई अगर दग़ा कर दे

 

मिल सके जेह्न को सुकूँ ‘सूरज’

दर्दे दिल की कोई दवा कर दे

 

डॉ सूर्या बाली ‘सूरज’

Go Back

अब तिरी याद में कटे दिन भी

रात डसती थी डस रहे दिन भी

अब तिरी याद में कटे दिन भी

 

क्या कहें उनकी इन अदाओं को

दूर बैठे हैं वस्ल के दिन भी

 

क्यूँ शिकायत करूँ मैं रातों से

अब सियाही में ढल गए दिन भी

 

हमने काटीं है खार सी रातें

और देखें हैं गुल भरे दिन भी

 

ये शबे ग़म भी बीत जाएगी

बीत जाएँगे ये बुरे दिन भी

 

वो गए कहके आ रहे हैं अभी

फिर नहीं आए ईद के दिन भी

 

हमने देखा है उगते ‘सूरज’ को

हमने देखें हैं डूबते दिन भी

 

डॉ सूर्या बाली 'सूरज'

Go Back

जा तुझे अब सदा नहीं दूंगा

प्यार का वास्ता नहीं दूंगा

अब तुझे मैं सदा नहीं दूंगा

 

मैने दुश्मन बना लिया तुझको

अब कभी मशवरा नहीं दूंगा

 

लाख मुझको बुरा कहे लेकिन

मैं उसे बददुआ नहीं दूंगा

 

जान दे दूंगा बात आई तो

यार तुझ को दग़ा नहीं दूंगा

 

सच से इंकार जो करे उसको

मैं कभी आइना नहीं दूंगा

 

एक लम्हे के रूठ जाने से

ज़िंदगी तो मिटा नहीं दूंगा

 

प्यार से मैंने कर लिया तौबा

ज़ख्म दिल को नया नहीं दूंगा

 

ज़ख्म सहने की हद भी है सूरज

ख़ुद को इतनी सज़ा नहीं दूंगा

 

डॉ सूर्या बाली ‘सूरज’

वास्ता= संबंध का हवाला , सदा= आवाज़, मशवरा =सलाह, बारहा= बार बार, दग़ा =धोका 

Go Back

20 Blog Posts