डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

Blog posts : "हर कदम पे राह मे रुशवाइयाँ थीं"

हर कदम पे राह मे रुशवाइयाँ थीं

हर कदम पे राह मे रुशवाइयाँ थीं।

                    वो न था उसकी कदम-आराइयाँ थी॥


खींचने से रोक देती थी हंसी तस्वीर जो,

                      वो तो उसके हुस्न की रानाइयाँ थीं॥


दहशत मे जीता था जिसे मैं  देखकर ,

                      वो तो मेरे जिस्म की परछाइयाँ थीं॥


डूबता जिसमे गया मैं दिन ब दिन,

                     झील सी आँखों की वो गहराइयाँ थीं॥


जिसके साये मे सुकुं मुझको मिला,

                     उनके ज़ुल्फों की घनी अमराइयाँ थीं॥


चैन से जीने भी मुझको न दिया,

                        ऐसी उसके जाने की तनहाइयाँ थीं॥


जिसपे “सूरज” फिर से चमका शाम को,

                     हाय वो क़ातिल गज़ब अंगड़ाइयाँ थीं॥

                                       

                                           डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

1 blog post