डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

हर बात का मज़ाक उड़ाया न कीजिये

October 18, 2011 at 23:54

हर बात का मज़ाक़ उड़ाया न कीजिये।

रिश्तों को बेरुख़ी से निभाया न कीजिये॥


                        बीमारी  आशिक़ी की बड़ी ही हसीन है,

                        इस रोग का इलाज़ कराया न कीजिये॥


कहते है लोग पीके उसे भूल जाऊंगा,

साक़ी मुझे शराब पिलाया न कीजिये॥


                       रूसवाइयाँ मिलेंगी  हज़ारों ए दोस्तों,

                       मेरे फ़साने सबको सुनाया न कीजिये॥


हर शख़्स दोस्ताने के क़ाबिल नहीं होता,

"सूरज" सभी को दोस्त बनाया न कीजिये॥


                                           डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

Go Back

Comments for this post have been disabled.