डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

हर कदम पे राह मे रुशवाइयाँ थीं

हर कदम पे राह मे रुशवाइयाँ थीं।

                    वो न था उसकी कदम-आराइयाँ थी॥


खींचने से रोक देती थी हंसी तस्वीर जो,

                      वो तो उसके हुस्न की रानाइयाँ थीं॥


दहशत मे जीता था जिसे मैं  देखकर ,

                      वो तो मेरे जिस्म की परछाइयाँ थीं॥


डूबता जिसमे गया मैं दिन ब दिन,

                     झील सी आँखों की वो गहराइयाँ थीं॥


जिसके साये मे सुकुं मुझको मिला,

                     उनके ज़ुल्फों की घनी अमराइयाँ थीं॥


चैन से जीने भी मुझको न दिया,

                        ऐसी उसके जाने की तनहाइयाँ थीं॥


जिसपे “सूरज” फिर से चमका शाम को,

                     हाय वो क़ातिल गज़ब अंगड़ाइयाँ थीं॥

                                       

                                           डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

Comments for this post have been disabled.