डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

वतन के शहीदों ज़रा आँख खोलो

October 11, 2011 at 12:10

वतन के शहीदों ज़रा आँख खोलो,

       ये देखो तुम्हारा वतन जल रहा।

                 जिसे तुमने ख़ून-ए-ज़िगर देके सींचा,

                                 गुलों से भरा वो चमन जल रहा॥


छीनते क्यूँ हैं ये हम ग़रीबों का प्यार;

         जाति-मज़हब के बन बैठे जो ठेकेदार,

                    पाप बन कर जमीं पे हैं ये जी रहे;

                              देख कर इनको सारा गगन जल रहा॥


जीने देते नहीं जग को आराम से;

         इनका मतलब नहीं कुछ सही काम से,

                      आग नफ़रत की इस क़द्र फैला दिये;

                            जिससे उनका ही अब तन बदन जल रहा॥


जिसके ख़ातिर यहाँ तूने क़ुरबानी दी;

              शौक से अपनी हर शै यहाँ फ़ानी की,

                          अब वही आशियाँ फूकते हैं तेरा;

                                  देख लो अब तो चैन-ओ-अमन जल रहा॥


राहबरी तेरी कुछ कम कर न सकी,

           तेरी राहों पे कोई भी चल न सका,

                        फिर गया पानी अब तेरी उम्मीदों पर,

                                      तुमने देखा था जो वो सपन जल रहा॥


                                                  डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

Comments for this post have been disabled.