डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

वतन के शहीदों ज़रा आँख खोलो

वतन के शहीदों ज़रा आँख खोलो,

       ये देखो तुम्हारा वतन जल रहा।

                 जिसे तुमने ख़ून-ए-ज़िगर देके सींचा,

                                 गुलों से भरा वो चमन जल रहा॥


छीनते क्यूँ हैं ये हम ग़रीबों का प्यार;

         जाति-मज़हब के बन बैठे जो ठेकेदार,

                    पाप बन कर जमीं पे हैं ये जी रहे;

                              देख कर इनको सारा गगन जल रहा॥


जीने देते नहीं जग को आराम से;

         इनका मतलब नहीं कुछ सही काम से,

                      आग नफ़रत की इस क़द्र फैला दिये;

                            जिससे उनका ही अब तन बदन जल रहा॥


जिसके ख़ातिर यहाँ तूने क़ुरबानी दी;

              शौक से अपनी हर शै यहाँ फ़ानी की,

                          अब वही आशियाँ फूकते हैं तेरा;

                                  देख लो अब तो चैन-ओ-अमन जल रहा॥


राहबरी तेरी कुछ कम कर न सकी,

           तेरी राहों पे कोई भी चल न सका,

                        फिर गया पानी अब तेरी उम्मीदों पर,

                                      तुमने देखा था जो वो सपन जल रहा॥


                                                  डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

Comments for this post have been disabled.