डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

माना कि उनकी तरह तो क़ाबिल नहीं हूँ मै

माना कि उनकी तरह तो क़ाबिल नहीं हूँ मै।

पर लूट, भ्रष्टाचार में शामिल नहीं हूँ मैं॥

                         वाकिफ़ हूँ हर इक चाल से लोगों की मैं यहाँ,

                         इतना भी इस ज़माने से गाफ़िल नहीं हूँ मैं।।

ठहरा रहूँ एक ही जगह, फितरत नहीं मेरी,

दरिया का मौज हूँ कोई साहिल नहीं हूँ मैं !!

                           ज़ुल्मों सितम को देख कर, मुँह मोड़ता नहीं,

                           ख़तरों से खेल जाता हूँ, बुज़दिल नहीं हूँ मैं॥

वो मुझको गुनहगार, बताने पे था तुला,

मुंसिफ़ को ये पता था की क़ातिल नहीं हूँ मैं॥

                           मुझको भी तो होता है एहसास दर्द का,

                           आकर क़रीब देख ले संगदिल नहीं हूँ मैं॥

कूँचे से जब वो गुजरे सहनाइयों के साथ,

तब मुझको लगा, उनकी मंज़िल नहीं हूँ मैं॥

                           मज़हब का ग़लत पाठ पढ़ाता था रात दिन,

                           जबकि वो जानता था की जाहिल नहीं हूँ मैं॥

माँ की निगाह से अगर "सूरज" तू देखेगा,

फिर तुझको लगेगा की मुल्ज़िम नहीं हूँ मैं॥

                                                         डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

Go Back

Comments for this post have been disabled.