डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

दिल किसी का अगर दुखाओगे

September 23, 2011 at 15:06

दिल किसी का अगर दुखाओगे,

ख़ुद भी तुम चैन नहीं पाओगे।

नींद आंखो से चली जाएगी,

करवटों मे ही सब बिताओगे।।

                  ज़ख्म दिल के कभी नहीं भरते,

                  लोग हर शख्श पे नहीं मरते। 

                  कोई तड़पेगा अगर तेरे लिए,

                  तुम भी कैसे उसे भुलाओगे।।

साक़ी इतना भी कारसाज़ नहीं,

जाम हर मर्ज़ का इलाज़ नहीं।

दोगे तक्लीफ़ ख़ुद-बख़ुद को ही,

मयक़दे मे जो रोज़ जाओगे ॥

                 इश्क़ मे शर्त कुछ नहीं रखते,

                 गिले शिकवे कभी नहीं करते। 

                 फ़ासले ख़ुद-ब-ख़ुद मिट जाते हैं,

                 प्यार से ग़र कदम बढ़ाओगे ।।

दिलों के बीच कुछ दूरी न रहे,

किसी की कोई मजबूरी न रहे। 

ज़िंदगी मुस्कराएगी “सूरज”,

हंस के हर ग़म अगर उठाओगे।।

                                  -डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

Go Back

Comments for this post have been disabled.