डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

घबरा गए अगर तो कहीं के न रहोगे

October 3, 2011 at 09:19

घबरा गए अगर तो कहीं के न रहोगे।

मरने से गए डर तो कहीं के न रहोगे॥

                       इंसानियत के बीच मे नफ़रत न लाइये,

                       फैलेगा ये ज़हर तो कहीं के न रहोगे॥

ये मोमिनों ख़ुदा को तो रुसवा न कीजिये,

टूटेगा जब क़हर तो कहीं के न रहोगे॥

                     है अब भी बचा मौक़ा कर तौबा गुनाहों से ,

                     गया वक़्त जो गुज़र तो कहीं के न रहोगे॥

इतना यक़ीन मत करो तुम उसकी वफा पर,

हुआ बेवफा अगर तो कहीं के न रहोगे ॥

                    चैन-ओ-अमन मे जी रहा हर एक आदमी,

                    उजड़ा जो ये शहर तो कहीं के न रहोगे॥

मुंसिफ़ के सामने है खड़ा क़त्ल का गवाह,

जाएगा वो  मुक़र तो कहीं के न रहोगे॥

                      ये दोस्तों शराब को ज़्यादा न पीजिए,

                     फूंकेगी ये ज़िगर तो कहीं के न रहोगे॥

राहों मे चले साथ तो मिल जाएगी मंज़िल,

बिछड़े जो हमसफर तो कहीं के न रहोगे॥

                      ऊंची उड़ान भरने से पहले तू सोच ले,

                      “सूरज” जो टूटा पर तो कहीं के न रहोगे॥     

                                                डॉ॰सूर्या बाली “सूरज”

 (ये ग़ज़ल प्रिय मित्र  राकेश दूबे  "सूफी" को समर्पित है)

Go Back

Comments for this post have been disabled.