डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

खुल के हम इंसान से इंसान की बातें करें

खुल के हम इंसान से इंसान की बातें करें॥

हौसले, उम्मीद औ इमकान[1] की बातें करें॥


छोड़कर चक्कर लगाना अब इबादतगाह[2] का,

रूह[3] के भीतर बसे भगवान की बातें करें॥


राह दिखलाती हैं जो सबको अमन औ चैन की,

बाइबिल, गीता की औ क़ुरआन की बातें करें॥


तोड़ डालें मज़हबी दीवार आओ हम सभी,

प्यार से मिल जुल के हिंदुस्तान की बातें करें॥


जो दिलों मे प्यार भरदे, औ लबों पे दे हंसी ,

सूर, मीरा, जायसी, रसखान की बातें करें॥


क्या ज़माना आ गया क़ातिल सभी मुंसिफ़[4] हुए,

कल के बेईमान अब ईमान की बातें करें॥


रौशनी कर दे, मिटा दे ज़िंदगी की तीरगी[5],

चाँद, “सूरज”, तारों के उनवान[6] की बातें करे॥

                

                                           डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”



[1] इमकान=संभावनाएँ 2 इबादतगाह= पूजा स्थल 3 रूह=आत्मा 4 मुंसिफ़=न्यायाधीश 5 तीरगी=अंधेरा 6 उंवान=संदर्भ,हेडिंग

 

 

 

 

 

Go Back

Comments for this post have been disabled.