डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

किसी ने भी नहीं देखी कभी सरकार सदमे में

July 21, 2012 at 09:57

किसी ने भी नहीं देखी कभी सरकार सदमे में।

मगर जनता है जो देखी गयी हर बार सदमे में॥

 

मुहब्बत करने वाले हैं ज़माने के निशाने पर,

है फतवा खाप पंचायत का सुनकर प्यार सदमे में॥

 

सुना मनरेगा में जबसे हुआ घपला करोडों का,

तभी से जी रहे हैं सैकड़ों परिवार सदमे में॥

 

है देखा हाल जब से देश ने राजा औ मंत्री का,

दबाकर दाँत में उंगली खड़े सरदार सदमे में॥

 

हुई नक़ली दवाएँ हैं बरामद शहर में जबसे,

दवाख़ाना, मसीहा, नर्स, औ बीमार सदमे में॥

 

अमीरे शहर से करके मुहब्बत क्या मिला हमको,

ग़रीबे-शहर की बेटी पड़ी लाचार सदमे में॥

 

ये दिल्ली है जो करती है सियासत के सभी ड्रामे,

टहलते देखे हैं मैंने कई किरदार सदमे में॥

 

किसानों को बचा पाये नहीं गर सूदखोरों से,

वज़ीरो !  डूब जाएंगे कई परिवार सदमे में॥

 

बचाकर कैसे रक्खें घर को इस मंहगाई में “सूरज”,

हमारी ज़िंदगी के हैं दरो-दीवार सदमे में॥

                                      डॉ. सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

Comments for this post have been disabled.