डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

यकीं मुझको है तुम आओगे इक दिन

header photo

Blog posts : "ग़ज़ल"

एड्स

रोग तो अनेक प्रकार के हैं मानव में,

उनमे से एड्स की समस्या विकराल है।

सुलझी न गुत्थी इस रोग के इलाज़ की,

डॉक्टर और वैद्य सब इससे बेहाल हैं।।

                                   एक्वायर्ड इम्मुनो डिफीसियंसी सिंड्रोम नाम,

                                   आरएनए विषाणुजनित रोग की मिशाल है।

                                    एचआईवी विषाणु पैदा करता है एड्स को,

                                    रोक सके कौन इसे किसकी मजाल है।।

दूध, लार, मेरुद्रव्य में निवास करता है,

रक्त, वीर्य, योनिरस में तो मालामाल है।

करे मित्रता ये  सीडी-4 रक्त कणिका से,

पंगु प्रतिरक्षा करे ऐसी इसकी चाल है।।

                                  जब घट जाए प्रतिरोधक शक्ति तन की तो,

                                  कोई भी रोग कर सके बुरा हाल है।

                                  कहने को हमने तो चांद को भी जीत लिया,

                                  खोजे कैसे एड्स का इलाज़ ये सवाल है?

स्त्री, पुरुष, वर्ग, जाति-धर्म कोई हो,

करता न भेद भाव यही तो कमाल है।

सभी सूई, वैक्सीन, टबलेट बेकार हुए,

कोई भी दावा न तोड़ सकी इसका जाल है।।

                                 जांच करवा के ही खून चढ़वाइएगा,

                                 लगे नई सुई सिरिंज रखना ख्याल है।

                                 किसी अंजाने से संबंध जो बनाइये तो,

                                 उम्दा निरोध का ही करना इस्तेमाल है।।

रोग लाईलाज न तो टीका न दवाई है,

करिए बचाव एकमात्र यही ढाल है।

रोग लाईलाज न तो टीका न दवाई है,

करिए बचाव एकमात्र यही ढाल है।।

                                                               डॉ॰सूर्या बाली "सूरज"

Go Back

कल भी हम साथ रहें ये कोई ज़रूरी नहीं।

कल भी हम साथ रहें ये कोई ज़रूरी नहीं।

हाथों मे हाथ रहें ये कोई ज़रूरी नहीं।।

                   तू तो धड़कन की तरह दिल में बसी हो मेरे,

                   इसका इज़हार करूँ ये कोई ज़रूरी नहीं।।

एक ही आबो-हवा, एक ही चमन फिर भी,

हर कली फूल बनेगी, कोई ज़रूरी नहीं।।

                वो तो हर शय मे है, चाहे जहाँ पुकारो उसे,

                सर झुके बुत के ही आगे कोई ज़रूरी नहीं।। 

ग़म भुलाने के तरीक़े तो और हैं साक़ी,

जाम पीके ही भुलाऊँ कोई ज़रूरी नहीं।।

                सभी तो राह मे हैं अपनी अपनी मंज़िल के,

                सबको हो जाएगी हासिल, कोई ज़रूरी नहीं।।

इतनी आसानी से “सूरज” यकीन मत करना,

सब तेरे दोस्त ही हों, ये कोई ज़रूरी नहीं।।

                                                         डॉ॰ सूर्य बाली “सूरज”

 

Go Back

आज कल लोगों से मिलते हुए डर लगता है।

आज कल लोगों से मिलते हुए डर लगता है।

शायद मुझपे भी जमाने का असर लगता है।।

                      सहमा सहमा सा हर इंसान यहां है देखो,

                      साये मे मौत के अब अपना शहर लगता है॥

भटक रहा है ये इंसान ज़िंदा लाश लिए,

बड़ा बेजान सा ये राह-ए-सफर लगता है॥

                     न रहा प्यार- मोहब्बत न वो अपनापन,

                     अब तो शमशान के माफ़िक मेरा घर लगता है

ज़िंदगी हो गयी प्यासी अब लहू की ‘सूरज”

जान से भी बड़ा प्यारा इसे ज़र लगता है॥

                        डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

दिल किसी का अगर दुखाओगे

दिल किसी का अगर दुखाओगे,

ख़ुद भी तुम चैन नहीं पाओगे।

नींद आंखो से चली जाएगी,

करवटों मे ही सब बिताओगे।।

                  ज़ख्म दिल के कभी नहीं भरते,

                  लोग हर शख्श पे नहीं मरते। 

                  कोई तड़पेगा अगर तेरे लिए,

                  तुम भी कैसे उसे भुलाओगे।।

साक़ी इतना भी कारसाज़ नहीं,

जाम हर मर्ज़ का इलाज़ नहीं।

दोगे तक्लीफ़ ख़ुद-बख़ुद को ही,

मयक़दे मे जो रोज़ जाओगे ॥

                 इश्क़ मे शर्त कुछ नहीं रखते,

                 गिले शिकवे कभी नहीं करते। 

                 फ़ासले ख़ुद-ब-ख़ुद मिट जाते हैं,

                 प्यार से ग़र कदम बढ़ाओगे ।।

दिलों के बीच कुछ दूरी न रहे,

किसी की कोई मजबूरी न रहे। 

ज़िंदगी मुस्कराएगी “सूरज”,

हंस के हर ग़म अगर उठाओगे।।

                                  -डॉ॰ सूर्या बाली "सूरज"

Go Back

ये ज़मीं ये आसमां, कल रहे या न रहे।

ये ज़मीं ये आसमां, कल रहे या न रहे।

ये हसीं महफिल जवां, कल रहे या न रहे।।

            इस जहाँ मे बाँट दे, जो कुछ भी तेरे पास है,

            ये हुनर तेरी अमानत कल रहे या न रहे।।

छोड़ा ना दामन मैं ग़म का, क्यूंकि मुझको था यकीं,

ये ख़ुशी कुछ पल की है, कल रहे या न रहे।।

            माटी के पुतले पे इतना क्यूँ भरोसेमंद हो,

            दिल मे जो आए वो कर लो, कल रहे या न रहे।।

सब तो मतलब के हैं रिश्ते, कौन किसका है यहाँ,

आज रिश्ता ख़ास है जो, कल रहे या न रहे।।

            खोलकर दिल बात कर लो, न रहे शिकवे गिले,

           साथ “सूरज” का औ तेरा, कल रहे या न रहे।

                                            डॉ॰ सूर्या बाली, “सूरज”

Go Back

किसी से दिल लगा के देखिये क्या होता है !

किसी से दिल लगा के देखिये क्या होता है !

फ़ासलों को मिटा के देखिये क्या होता है।

                       आपको सारा जहां अपना नज़र आएगा,

                       दिल से नफ़रत हटा के देखिये क्या होता है।

कितना आराम और सुकून मिलेगा दिल को,

जरा सा मुस्करा के देखिये क्या होता है।

                      ऐसी मंज़िल नहीं कोई जो कदम न चूमे,

                      हौसला तो बढा के देखिये क्या होता है।

लोग पागल के सिवा कुछ न कहेंगे “सूरज”,

घर को अपने जला के देखिये क्या होता है॥

                                    डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

हादसों के इस शहर में घर तुम्हारा दोस्तों।

हादसों के इस शहर में घर तुम्हारा दोस्तों।

इसलिए वाज़िब भी है ये डर तुम्हारा दोस्तों।

               तुझको पहुंचाएगा कैसे, तेरी मंज़िल के क़रीब,

                खुद-ब-खुद भटका हुआ, राहबर तुम्हारा दोस्तों।

घर जला के, फिर से लौटे हो बुझाने के लिए,

ये रहा एहसान भी, मुझ पर तुम्हारा दोस्तों।

              यूं छिपाके ग़म को पीना इतना भी अच्छा नहीं,

              देखो जाये न छलक सागर तुम्हारा दोस्तों।

इतना इतराओ नहीं माटी के इस पुतले पे तुम,

ख़ाक मे मिल जाएगा पैकर तुम्हारा दोस्तों।

               पहले खुद पत्थर बने, पत्थर के बुत को पूजके,

               हो गया है दिल भी अब, पत्थर तुम्हारा दोस्तों।

मारोगे “सूरज” को पत्थर, उसका बुरा होगा नहीं,

डर है मुझको फूटे न कहीं सर तुम्हारा दोस्तों।।

                                                       डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

वो हादसे जो मेरी ज़िंदगी मे आते गए....

वो हादसे जो मेरी ज़िंदगी मे आते गए,

कभी हसाते गए तो कभी रुलाते गए।

                       उजाड़ देता था वो रोज आशियाने को,

                       और एक हम थे मुकर्रर जिसे बनाते गए।

भरम तो रखना था मदहोश निगाहों का भी,

हम भी बस पीते गए और वो पिलाते गए।

                       हर एक मोड पे पत्थर जो मुझसे टकराए,

                       राह चलने के सलीके सभी सिखाते गए।

कल की सब याद बहुत आए थे “सूरज” वो हमें,

नाम लिख लिख के हथेली पे हम मिटाते गए।

                        -डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज “

Go Back

शहर का आदमी अब गाँव जाना चाहता है,

ग़ज़ल

शहर का आदमी अब गाँव जाना चाहता है,

सुकून, आराम, खुशियाँ , चैन पाना चाहता है।

                          सांस लेना हुआ दुश्वार, पत्थरों के जंगल में,

                          बगीचे गाँव के फिर से सजाना चाहता है ।

दीवारों मे सिमट के रह गया जो रात-दिन ,

खुले आकाश मे कुछ पल बिताना चाहता है।

                         डर गया है, क़त्ल, बारूदी धमाके देखकर,

                         दिन ब दिन के हादसों से दूर जाना चाहता है।

कुछ न पाया चल के तन्हा इक उदासी के सिवा,

रिश्ते नातों का घरौंदा फिर बनाना चाहता है।

                               -डॉ॰ सूर्या बाली “सूरज”

Go Back

9 Blog Posts